Twitter

Follow palashbiswaskl on Twitter

Friday, December 2, 2016

#BiomertricTsunamiahead #MilitaryCoup against agaisnt Mamata Bannerjee or an Arrest Attempt? Mamata Banerjee refuses to leave office, wants Army out of toll booths! Trinamool raises ‘military coup’ issue in Parliament, Parrikar says don’t make it a controversy! Mamata Banerjee had said that the the Army deployment was in “clear violation of the Constitution” and a bid to “create a civil war like situation in the country.” Palash Biswas


#BiomertricTsunamiahead

#MilitaryCoup against agaisnt Mamata Bannerjee or an Arrest Attempt?

Mamata Banerjee refuses to leave office, wants Army out of toll booths!

Trinamool raises 'military coup' issue in Parliament, Parrikar says don't make it a controversy!

Mamata Banerjee had said that the the Army deployment was in "clear violation of the Constitution" and a bid to "create a civil war like situation in the country."

Palash Biswas

Today I visited almost a dozen ATMs in the neighbourhood and returned empty handed to read an alarming news that it would be biometric payment system in Cashless Digital India.Ruling TMC has launched a mass agitation against Demonetization all over Bengal as DIDI continued the Jihad and extended in Uttar Pradesh and Bihar.I saw TMC supporters demontrating before banks everywhere targeting the governance of fascism.Despite differenaces ,we have to salute the courage of the lady always ready to stree fight in the best interest of the masses.No political party has taken any intitiative similar. The CPIM GS Sitaram Yetury left to mourn in Cuba accomapning Saffron Commander Rajnath Singh and Bengla cpim still targeting Mamata and had done nothing against Demonitization.

Government wants Aadhaar-enabled payment to replace debit, credit cards!

The initiative can help the government deal with situations like recent demonetisation and curb black money menace while bringing in more financial transaction transparency.

The Unique Identification Authority of India (UIDAI), in an attempt to encourage Aadhaar-enabled payments, has planned to increase biometric authentication capacity through Aadhaar from 10 crore to 40 crore a day to move to a cashless society.According to a new plan, these Aadhaar merchants, to be located in every rural village, will facilitate small payments such as grocery or medical bills or even open a bank account using biometric authentication.

Mind you,Biometric payment is a point of sale (POS) technology that uses biometric authentication to identify the user and authorize the deduction of funds from a bank account. Fingerprint payment, based on fingerscanning, is the most common biometric payment method. Often, the system uses two-factor authentication, in which the finger scan takes the place of the card swipe and the user types in a PIN (personal ID number) as usual.It means with every trasaction you have to share yourpersonal data to anyone whom you never know and it would be almost impossible to guard yourself against the calamities imminent just because the biometric data might be misused at any point. 

Mind you,I have talked to top Bank Officials after Card hacking and they admitted for biometric data sharing Bankning Security is never enough.Meanwhile,I have talked the HDFC headquarter which wanted my  feed back.I told them that I am rather worried for India bank System and sorry for Bank employers.I told them HDFC service has been excellent in Bengal area as they are trying their best that HDFC ATMs should not go dry.HDFC official are also helping the senior citizens and masses have no complaint at all.Bank employees in general are working round the clock under tremendous stress.But Iam afraid that the Government of India is admaent to fail Indian Banking and opening all doors of fraud and money laundering.

Dr.Amartya Sen,Kaushik Basu and Abhirup Sarkar ,all eminent economists are worried for a breakdown of the economy as Banks have become virtually bankrupt.Banks fail tp pay wages and pension and it heralds rather Greek tragedy being enacted in India.Indian Banking system is handed over to non banking parties as PayTM,Big Bazar and Jio which would not ensure saftey against fraud,cyber crimes and moneylaundering.At the same time banks have to face heavy losses in transactions as transactions have been handed over to private parties.Now it would be UID for cashless transaction.It would be disastrous.

In these circumsatnces,West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee opened another front in her battle with the centre on Thursday, objecting to the presence of Army soldiers at toll booths on national highways that run through her state, saying the state government's permission should have been sought.

Is it Military Coup against agaisnt Mamata Bannerjee or an Arrest Attempt?Since Mamata is leading Anti Demonetization Resistance,the proactive CBI activism heralds some unexpected political development and it might be also a step forward to make Bengal Saffron!

Is it an delayed attempt to arrest Mamata Bannerjee in Sarda a or Nrada Scame to make the reissistance against Demnetization politically silent which might finish TMC as well as the Left in the best interest of saffron agenda.If Bengal is captured after Assam,the coup is needed.

We do not any similar exercise in any other state so far.Hence,the matter seems rather fishy!

"Is this a military coup?" Mamata asked, adding, "even for a mock drill, the army has to take the state's permission, and they have not."

The Trinamool Congress and other opposition parties raised the issue of the presence of Army personnel at toll plazas 'in various parts' of West Bengal in both Houses of Parliament on Friday. WB chief minister Mamata Banerjee had earlier told the Indian Express that the Army deployment was in "clear violation of the Constitution" and a bid to "create a civil war like situation in the country."

However,the Army however clarified and called the incident a 'routine exercise.' Defence Minister Manohar Parrikar also spoke on the issue in Parliament and said that Trinamool's reaction to the incident was merely 'political frustration.' He said, "Its sad that a routine exercise has been made into a controversy now." Parrikar added that the exercise was scheduled to happen on December 28, 29 and 30, but were shifted to December 1, 2 on the request of Kolkata police.

Defence minister Manohar Parrikar on Friday rubbished allegations by West Bengal chief minister Mamata Banerjee related to an "army coup", calling it political frustration.


Banerjee is protesting against the presence of the army at toll plazas in several parts of the state, saying the permissions were not taken for the same.


"I am very sad that such routine exercise by army is being used for controversy," Parrikar told Parliament, adding it was a standard practice. "It is only political frustration."

The Chief Minister spent the night in her office at the secretariat Nabanna, refusing to go home till the Army left.


"I am the custodian of common people... I will stay put here for the whole night and observe the situation," Ms Banerjee told reporters after midnight.


Till 11 pm, just 500 metres away, there were soldiers at the Hooghly bridge toll booth conducting what the Army said was a routine exercise across eastern states to "gather statistical data about load carriers that could be made available to the Army in case of a contingency."


A few hours later, the Army moved out of the toll booth. A temporary shed which had been set up was also removed.


"These people may have gone. But they are there in 18 other districts," Ms Banerjee said.


She said she had checked with other states which reported no such exercise and called it "political vendetta" and "an attack on the federal structure" by the centre, with which she has crossed swords over the currency ban. "Besides the financial emergency, the attack on democracy and the federal structure, is there an emergency?"


Soldiers were first spotted at the toll plaza at Dankuni in Hooghly district, about 35 km from Kolkata, and at Palsit toll plaza about 90 km away.


Even as Mamata Banerjee reacted angrily to that deployment, soldiers arrived at the Hooghly Bridge toll plaza. Hooghly Bridge or Vivekananda Setu connects Kolkata to Howrah district across the river. Nabanna is at the Howrah end of the bridge.


The army's Eastern Command has said the state police had been informed. "Army conducting routine exercise with full knowledge & coord with WB Police. Speculation of army taking over toll plaza incorrect @adgpi," it tweeted.


But the Kolkata Police responded, also on Twitter, "Army excercise at Toll Plaza was objected to in writing by Kolkata Police, citing security reasons & traffic inconvenience.@easterncomd"


The Chief Minister said she has asked Chief Secretary Basudeb Banerjee, the state's top bureaucrat, to complain to the centre.      


Before the Hooghly toll booth, soldiers in fatigues were spotted at toll plazas in Dankuni and Palsit and Derek O'Brien, a lawmaker of Ms Banerjee's Trinamool Congress had earlier on Thursday evening tweeted a video. Later in the night, Ms Banerjee alleged that there was "more army deployment" in other Bengal districts.


The Army has said it conducts the data collection exercise at toll booths across the country bi-annually and assured that, "There is nothing alarming about this and it is carried out as per government orders." The exercise will end on Friday.


"Routine exercise in all NE states. In Assam @ 18 places, Arunanchal@13, WB@19, Manipur@6, Nagaland@5, Meghalaya@5, Tripura & Mizoram@1@adgpi," the army tweeted.


Mr O'Brien called it a "dangerous situation," and said his party would raise the issue in parliament on Friday.


The Trinamool Congress is part of a united opposition attack on the centre in parliament over its ban on 500 and 1000-rupee notes aimed at curbing corruption and black or untaxed money. Mamata Banerjee is visiting different cities to protest; she accuses the government of punishing the poor with its notes ban which has led to a huge cash crunch.


--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

Thursday, December 1, 2016

महत्वपूर्ण खबरें और आलेख अमेरिका बनते-बनते देश यूनान बन गया। गनीमत है अभी सेना के हवाले नहीं हुआ

RECENT POSTS

  • जनता बेहाल कतारों में, नहीं मिला काला धन

जनता बेहाल कतारों में, नहीं मिला काला धन

  • नोटबंदी – खोदा पहाड़ और नहीं निकला काला धन

नोटबंदी – खोदा पहाड़ और नहीं निकला काला धन

  • स्वतंत्र न्यायपालिका देश में लोकतंत्र की सफलता का प्रमुख आधार – न्यायमूर्ति ठाकुर

स्वतंत्र न्यायपालिका देश में लोकतंत्र की सफलता का प्रमुख आधार – न्यायमूर्ति ठाकुर

  • P.M. Brags and India Pays the Price

P.M. BRAGS AND INDIA PAYS THE PRICE

  • भक्तों का ही नोटों का कारोबार है

भक्तों का ही नोटों का कारोबार है

  • अरविंद केजरीवाल ने कहा – उप्र चुनाव में जनता भाजपा से बदला लेगी, भक्त हुए नाराज

अरविंद केजरीवाल ने कहा – उप्र चुनाव में जनता भाजपा से बदला लेगी, भक्त हुए नाराज

  • नोटों की आपूर्ति – छः से आठ महीने लगेंगे सुचारू होने में, अर्थव्यवस्था उसके बाद भी आशंकाओं के घेरे में

नोटों की आपूर्ति – छः से आठ महीने लगेंगे सुचारू होने में, अर्थव्यवस्था उसके बाद भी आशंकाओं के घेरे में

  • कालेधन पर छूट व नोटबंदी का विरोध – मोदी का पुतला फूँका

कालेधन पर छूट व नोटबंदी का विरोध – मोदी का पुतला फूँका

  • समान नागरिक संहिता की फेर उलझता तीन तलाक का मुद्दा

समान नागरिक संहिता की फेर उलझता तीन तलाक का मुद्दा

  • अमेरिका बनते-बनते देश यूनान बन गया। गनीमत है अभी सेना के हवाले नहीं हुआ

अमेरिका बनते-बनते देश यूनान बन गया। गनीमत है अभी सेना के हवाले नहीं हुआ

  • समकालीन वैश्विक संकट के पीछे धर्म है या राजनीति?

समकालीन वैश्विक संकट के पीछे धर्म है या राजनीति?

  • अकेले घिरे तानाशाह के बचाव में राजनीति में ओबीसी मोर्चाबंदी की शुरुआत?

अकेले घिरे तानाशाह के बचाव में राजनीति में ओबीसी मोर्चाबंदी की शुरुआत?

  • राहुल गांधी का ट्विटर अकाउंट हैक, पोस्ट कीं गालियां

राहुल गांधी का ट्विटर अकाउंट हैक, पोस्ट कीं गालियां

  • रिजर्व बैंक आफ इंडिया के पास ही रूपये नहीं, दिवालिया किसको कहते हैं ?

रिजर्व बैंक आफ इंडिया के पास ही रूपये नहीं, दिवालिया किसको कहते हैं ?

  • संविधान संशोधन विधेयक के विरोध में नेपाल के पश्चिमी क्षेत्र में तनाव

संविधान संशोधन विधेयक के विरोध में नेपाल के पश्चिमी क्षेत्र में तनाव

  • बिग बाजार का बिग बॉस हमारा प्रधानमंत्री हो गया है : ममता बनर्जी

बिग बाजार का बिग बॉस हमारा प्रधानमंत्री हो गया है : ममता बनर्जी

  • No List: No Donation Satyagraha (Chanda Bnd Satyagraha) against AAP

NO LIST: NO DONATION SATYAGRAHA (CHANDA BND SATYAGRAHA) AGAINST AAP

  • आयकर संशोधन बिल, पेटीएम स्कीम यानी

आयकर संशोधन बिल, पेटीएम स्कीम यानी "PAY TO MODI"

  • मोदी जी कुछ करो, जम्मू-कश्मीर में जवानों को ना मरवाओ

मोदी जी कुछ करो, जम्मू-कश्मीर में जवानों को ना मरवाओ

  • सर्दी में जोड़ों के दर्द का रखें खयाल, घरेलू नुस्खे

सर्दी में जोड़ों के दर्द का रखें खयाल, घरेलू नुस्खे

  • नोटबंदी-समाज को भ्रष्ट करने की प्रक्रिया, देश के साथ ऐसा मजाक नहीं किया जा सकता मि. मोदी

नोटबंदी-समाज को भ्रष्ट करने की प्रक्रिया, देश के साथ ऐसा मजाक नहीं किया जा सकता मि. मोदी

  • नेपाल – भारतीय राजदूत को देश निकाला की मांग

नेपाल – भारतीय राजदूत को देश निकाला की मांग

  • आयकर संशोधन बिल पारित कर मोदी सरकार ने कालेधन को जीवनदान दिया- आइपीएफ

आयकर संशोधन बिल पारित कर मोदी सरकार ने कालेधन को जीवनदान दिया- आइपीएफ

  • वैश्विकरण की चुनौती और वैश्विक दुनिया में मुसलमानों के लिए स्थान

वैश्विकरण की चुनौती और वैश्विक दुनिया में मुसलमानों के लिए स्थान

  • नोटबंदी- मोदी ने खुद को जेल से बचाने के लिये भारत की अर्थव्यवस्था को ध्वस्त कर दिया

नोटबंदी- मोदी ने खुद को जेल से बचाने के लिये भारत की अर्थव्यवस्था को ध्वस्त कर दिया

हस्तक्षेप के संचालन में छोटी राशि से सहयोग दें



--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

गनीमत है कि देश अभी सेना के हवाले नहीं हुआ है। #DemonetizationBoltfromSaffronforSalaryandPension #CyberSecurityinDigitalIndia #CashlessIndiaAwardCyberHacking पलाश विश्वास

गनीमत है कि देश अभी सेना के हवाले नहीं हुआ है।

#DemonetizationBoltfromSaffronforSalaryandPension

#CyberSecurityinDigitalIndia

#CashlessIndiaAwardCyberHacking

पलाश विश्वास

आज पहली तारीख है।नोटबंदी के तुगलकी फरमान के बाद पहली पहली तारीख है।फिजां कुछ अलग है और बहारे भी कुछ अलग हैं।फूल बरसाओ बहारों कि अच्छे दिन उमड़ घुमड़कर सुनामी छप्पर फाड़ है।अभी अभी एक शख्स के खाते में निनानब्वे करोड़ जमा हो गये हैं तो इससे पहले किसी के खाते में हजारों करोड़ जमा हुआ ठैरा।आज सुबह सुबह एक कामवाली ने हुमस कर कहा कि उसके खाते में न जाने किस भले आदमी या औरत ने अस्सी हजार डाल दिये।पता चलते ही उसने जुगत लगाकर दस हजार उसमें से निकाल लिये हैं।गरीबी हटाने का यह निराला अंदाज है।ऐसे लोगं को जैसा छप्परफाड़ नकदी खाता में मिला,वैसे ही 130 करोड़ की किस्मत का कायाकल्प हो जाये तो सतजुग आ गया समझो।सिर्प मुश्किल है कि रामराज्य के लिए फिर त्रेता युग का इंतजार करना पड़ सकता है।राम मंदिर की सौगंध के लिए इतना इंतजार किया और थोड़ा और इंतजार बी नहीं कर सकते क्या?  

अमेरिका बनते बनते मेरा देश यूनान बन गया।यूनान की जनसंख्या उतनी भी नहीं है,जितने लोग करीब दो करोड़ वेतन पेंशनभोगी बैंकों और एटीएम में कतारबद्ध हैं।

यह दिलफरेब नजारा भी अभूतपूर्व है वरना अबतक तो किसी कोने में लावारिस हुआ करता था एटीएम।ये दो करोड़ लोग अपनी कीमती वक्त इस तरह बैंकों के कतार में झोंक रहे हैं।

बाकी 128 करोड़ जनता को न वेतन मिलता है और न पेंशन और एक दो फीसद अरबपति करोड़पति वर्ग को छोड़कर बाकी तमाम लोग रंगबिरंगे कब्रिस्तान और श्मशानघाट के औघड़ वाशिंदे हैं कि रोज कुआं खोदकर वे पानी पीते हैं,घर फूंक तमाशा भी देखते हैं खामोश और रोज रोज मरते हुए उन्हें फिर जीने की आदत है और इनमें से ज्यादातर अपने पांवों के बल पर खड़े भी नहीं सकते और न उनकी तमाम इंद्रियां काम करती है।उनमें से कितनों के पास अपना दिमाग और दिल सही सलामत है,इसका भी कोई आंकड़ा नहीं है।फिलहाल देश बैंकों के दिवालिया हो जाने के बावजूद शांत है और सारा कारोबार कैशलैस है।

पिछले 8 नवंबर के बाद के अनुभवों के मद्देनजर,पैसा मिलें या नहीं,घर वाले जरुर उनके सकुशल घर लौटने का इतंजार कर रहे हैं।बाकी तो कैशलैस इंडिया है।

वैसे रिजर्व बैंक ने पर्याप्त कैश होने का दावा किया है और कहते हैं कि सेना कैश पहुंचाने में लगी है बैंकों और एटीएम तक।धीरज लोगों का टूटने लगा है।बवाल भी खूब मचने लगा है।बैंक कर्मी डरे हुए हैं कि कैश न मिलें तो पगलायी जनता न जाने क्या करे दें।सिनेमा हालों में तो देशभक्ति के लिए जनगणमन का इंतजाम हो गया जहां लोग लुगाइयों को सावधान मुद्रा में खड़ा कर दिया जायेगा।लेकिन बैंकों और एटीएम के सामने आम जनता जनगणमन गायन के साथ सावधान मुद्रा में खड़े होकर अभूतपूर्व मुद्रासंकट चामत्कारिक ढंग से सुलझ जाने का इंतजार करेंगे, फासिज्म के राजकाज ने फिलहाल ऐसा कोई फरमान जारी नहीं किया है।

भारतीय सेना देश के सरहद पर दुश्मनों का मुकाबला करती है तो उन्हें कभी कभार आम जनता का भी मुकाबला करना पड़ता है।दंगाग्रस्त और अशांत इलाकों को सेना के हवाले कर दिये जाने की रघुकुल परंपरा है।तो आदिवासी भूगोल में सैन्य अभियान सलवा जुड़ुम है।कश्मीर और मणिपुर में यह स्थाई बंदोबस्त है।आपदाओं में भी सेना उतारी जाती है।दिवालिया बना दिये गये बैंकों की मदद में शायद किसी देश में पहली बार सेना उतारी जा रही है।शायद अब हम अपने बैंकों और एटीएम में देर सवेर सरहदों का नजारा देखने वाले हैं।हालात तेजी से ऐसे बनते जा रहे हैं।

तनिक गौर फरमाये ये दो करोड़ वेतन और पेंशन भोगी लोग वे ही लोग हैं,जो फासिज्म के राजकाज के रंग बिरंगे कल पुर्जे हैं।जिनका बाकायदा बैंकों में खाता है और उन खातों में हर महीने पेंशन या वेतन जमा होता है।पहली तारीख के आगे पीछे वे महीने भर का खर्च नकदी में निकालते हैं।बाकी उन सबके पास एटीएम डेबिट क्रेडिट कार्ड हैं।

ये खास किस्म के लोग देश की बाकी 128 करोड़ से अलग हैं और इनमें से ज्यादातर की नींद वातानुकूलित दड़बों मे काम के वक्त और घर में भी केसरिया केसरिया है और उनका पर्यावरण गायंत्रीमंत्र जाप है ।सरकार चाहें तो उन्हें राजद्रोह के मामले में कैद कर सकती है क्योंकि वे कार्ड होने के बावजूद बैंकों और एटीएम के सामने भीड़ जमाकर कानून और व्यवस्था की समस्या पैदा कर सकते हैं।

फासिज्म के राजकाज के लिए मुश्किल यह है कि बही खाते में देश अभी लोकतंत्र हैं और मुक्तबाजार भी है।लोकतांत्रिक संस्थानों का खात्मा हो गया है लेकिन ट्विटर वगैरह एकाउंट हैक हो जाने के बावजूद विपक्ष अभी जिंदा है।इस पर तुर्रा संसद भी भारी शोर शराबे के साथ चल रही है ताकि देश के लोकतंत्र बने रहने,संविधान लागू होने और कानून के राज के साथ जनता के हकहकूक और मौलिक अधिकारों के बारे में किसी को कोई शक नहीं है। जेलखानों की तरह देश में सबकुछ ठीकठाक है और गैस चैंबर की तरह किसी को किसी सुगंध या दुर्गंध का अहसास नहीं है और न नागरिकों को सर पर मंडराती मौत दिखायी दे रही है क्योंकि वे डिजिटल हैं और अपना सच अपने ख्वाबों के मुताबिक आधार कार्ड और अपनी अपनी जाति के मुताबिक चुनने को आजाद हैं।

संसदीय सहमति असहमति की परवाह किये बिना बिना बहस कायदा कानून बदलने रोज रोज संविधान की हत्या करने की तर्ज पर  बिना किसी मसविदे या बहस के कालाधन निकालने के लिए पचास फीसद टैक्स जमा करके कालाधन सफेद करने का लोकतंत्र भी बहाल है,भले ही पेट्रोल पंपों और हवाई यात्राओं में पांच सौ का नोट अब नहीं चलने वाला है।

हम अपने जानी दुश्मन पाकिस्तान की तरह कतई नहीं है हालांकि उनके इस्लामी राष्ट्र का जुड़वा हमारा यह हिंदू राष्ट्र है लेकिन फौजी हुकूमत नहीं है।

चाहकर भी बैंकों और एटीएम पर बागी जनता को औकात में रखने के लिए सेना उतार नहीं सकते हैं।भले ही बैंककर्मियों की मदद के लिए कैश पहुंचाने की गरज से सेना की भी मदद ली जा रही है।हम सेना के परेड को देशभक्ति का पैमाना मानते हैं और हमारी देशभक्ति इसीमें हैं कि हम गली मोहल्लों और बाजारों में भी सेना का परेड देख लें।

कैशलैस इंडिया के कार्डधारी पगलाये नागरिकों के धीरज का बांद टूटने का यह ऐहतियाती इंतजाम है तो बाकी 128 करोड़ जनता पगला गयी तो पुलिस और सेना के परेड का क्या नजारा होगा, उसका अंदाजा लगाकर भक्तजनों के पुलकित कीर्तन कमसकम  सोशल मीडिया में जरुर होना चाहिए।राजनीति और मीडिया में विशेषज्ञ कीर्तनिये कम नहीं है।बेचारे रवीश कुमार से परहेज हैं तो उन्हीं कीर्तनियों की मुफ्त सेवा ली जा सकती है।

गनीमत है कि देश अभी सेना के हवाले नहीं हुआ है।

हमारे पूर्व संपादक ओम थानवी के इस मंतव्य पर गौर करें

मैंने पहले लिखा था कि काला धंधा रोकने की क़वायद ने वैधानिक कालाबाज़ारी का रास्ता खोल दिया है।

सरकार की अपनी फ़िफ़्टी-फ़िफ़्टी नीति को एक बारगी छोड़ दें, सरकार ने यह जो क़ायदा बनाया है कि असीमित दवा पाँच सौ के पुराने नोट से ख़रीद सकते हैं। और सीमित मोबाइल रीचार्ज भी हो सकता है। पर ज़्यादातर दवा-विक्रेता डाक्टर के रुक्के के बावजूद पुराना नोट लेने से इनकार कर रहे हैं। रीचार्ज वाले रीचार्ज से मुँह फेर रहे हैं।

पता चला है कि अपनी खाताबही में वे करोड़ों का काला धन सफ़ेद कर रहे हैं। वरना उन्हें अधिसूचना के मुताबिक़ पुराने नोट लेने से क्या गुरेज़? वे नोट उन्हें सरकार बदल कर देगी। ज़ाहिर है, वे आपके-हमारे नोट नहीं, अपने या ठेकेदारों के नोट बदलवाएँगे। उनके लिए इससे आसान काम क्या हो सकता है? सिर्फ़ काग़ज़ों में इंदराज चाहिए। उन्हें रुक्के की प्रति या ख़रीददार की आइडी रखने की हिदायत भी नहीं। किसी का नाम ही काफ़ी है!

बंगाल के मशहूर चिंतक लेखक इनामुल हक ने लिखा हैः

"অাপনাদের চোখ কপালে উঠে যাবে যদি জানেন যে মোদীজির নোট বদলের প্রকৃত উদ্যেশ্য কি?

দেশ বাসীকে কাঁদিয়ে দেশের বৃহত্তম শিল্প পতিদের মুখে হাসি ফুটিয়ে দেশের বৃহত্তম ভণ্ডামির গুরু অাজ কুম্ভীরাশ্রু ঝরাচ্ছেন৷

মোদীর প্রাণনাশের অাশঙ্কায় চিন্তিত 'রামদেব'৷

৫০০/১০০০ টাকার নোট বাতিলের পেছনে অাসল উদ্দেশ্যটি যদি বুঝতে চান তাহলে কিছুটা ফ্ল্যাশ ব্যাকে যেতে হবে—

এই মুহূর্তে দেশের ব্যাঙ্কে মোট অনাদায়ী লোন (Bad loan) এর পরিমান হলো ৬,০০,০০০ কোটি৷

কিছু সপ্তাহ অাগে Credit Rating Agency মোদী সরকারকে রিপোর্ট দেয় যে এই মুহূর্তে ভারতীয় ব্যাঙ্ককে অাশু ১.২৫ লক্ষ কোটি Capital Infusion দরকার৷

জুলাই ২০১৬ তে ১৩টি ব্যাঙ্ককে ২৩,০০০ কোটি টাকা inject করা হয়৷

২০১৫ সালে অর্থমন্ত্রী অরুণ জেটলি বলেন যে অাগামী ৪ বছরে (PSU) ব্যাঙ্ককে চাঙ্গা করতে অারো ৭০,০০০ কোটি দেওয়ার লক্ষ্য মাত্রা নিয়েছে কেন্দ্র৷

তার মানে ব্যাঙ্কে টাকা জমাটা বাড়াতে হবে,তবেই তো প্রিয় শিল্প পতিদের লোন মাফ করা যাবে অাবার তাদের নতুন লোন দেওয়া যাবে!

তাহলে ব্যাঙ্ককে নতুন ভাবে চাঙ্গা করে লোন প্রদানের ক্ষমতা বাড়ানোর উদ্যেশ্যটার ফলস্বরুপ ৫০০/১০০ টাকার নোট বাতিলের Panic Button টা দাবানোই একমাত্র পথ কেন্দ্রের৷

মোদী তাই করলেন৷

ব্যাস গোটা দেশ ব্যাঙ্কের লাইনে দাঁড়িয়ে পড়লো৷

ব্যাপক ভাবে টাকা জমা পড়ছে৷

কিন্তু তুলতে পাবেন না৷

শুধুমাত্র সংসার চালানোর টাকাটাই তুলতে পারবেন৷

টাকা তুলে বা পাল্টে নিলে তো অাসল উদ্যেশ্যটাই বিফল হবে যে৷

মোদী সরকার ও মোদী পন্থীরা ঢাক পিটিয়ে বললেন যে দেশীয় (Domestic) কালো টাকা উদ্ধারের জন্য এবং Terror Financing ও Fake Currency কে শেষ করার জন্য এই 'Demon'-etization.তাহলে কেনো ২০০০ টাকার নোট ছাপানো হলো?

বিদেশে গচ্ছিত ভারতীয় টাকা, দেশে মজুত বিদেশী টাকা, ফোরেক্স, বেনামে বিদেশে সম্পত্তিতে নিবেশ, সম্পত্তি, সোনা, অলঙ্কার রূপে গচ্ছিত কালো টাকাগুলো কি শুধু ৫০০/১০০০টাকা বাতিল করে উদ্ধার করা যাবে?

RBI এর তথ্যানুযায়ী ১৪লক্ষ কোটি টাকার মধ্যে ৩৮% নোট ১০০০টাকার, অার ৪৯% নোট ৫০০ টাকার৷

'Bussiness World' এর তথ্যানুযায়ী দেশে 'Fake note' 0.002% of Rs 1,000 notes, and 0.009% of Rs 500 notes.

তাহলে 'Fake Currency' যদি ISI ই ছাপায় তাহলে নতুন নোটের নকল করতে কতো দেরি লাগবে?




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Welcome

Website counter

Followers

Blog Archive